Connect with us

देश

भारत का डिजिटल क्रांति में नया कदम: विश्व में UPI की धूम!

Published

on

UPI
UPI

भारत ने डिजिटल पेमेंट सिस्टम में एक नई ऊंचाई को छू लिया है, जिसकी शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हुई। विश्व स्तर पर भारत की प्रतिष्ठा और साख में इजाफा हुआ है, जिसका प्रमुख कारण है डिजिटल इंडिया की दिशा में उठाए गए कदम। भारत में डिजिटल पेमेंट सिस्टम, विशेषकर यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) की सफलता, दुनिया भर में चर्चा का विषय बनी हुई है। इस संदर्भ में, प्रधानमंत्री मोदी ने श्रीलंका और मॉरीशस में UPI सेवाओं की शुरुआत की, जो डिजिटल पेमेंट्स को वैश्विक स्तर पर ले जाने के भारत के निरंतर प्रयासों का प्रमाण है। इस कदम से न केवल भारतीय पर्यटकों को विदेशों में भुगतान सुविधाएँ मिलेंगी बल्कि इससे श्रीलंका और मॉरीशस के पर्यटकों को भी भारत में अपने वित्तीय लेनदेन को सरल बनाने में मदद मिलेगी।

Read Also- भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत: कतर में फंसे नौसैनिक स्वदेश लौटे!

Advertisement

डिजिटल इंडिया के तहत शुरू किए गए UPI से लाखों लोग अब एक क्लिक के माध्यम से पैसों का लेनदेन कर पा रहे हैं। इसकी वजह से हर महीने ऑनलाइन पेमेंट की संख्या में वृद्धि हो रही है और यूपीआई ट्रांजैक्शन ने रिकॉर्ड तोड़ दिया है। डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर में लगातार आगे बढ़ रहे भारत का यह कदम वैश्विक फिनटेक सेक्टर में भारत की नई बुलंदियों को छूने का संकेत है।इससे पहले, फ्रांस की राजधानी पेरिस में भी UPI सेवा की शुरुआत की गई थी, जिसे धीरे-धीरे पूरे देश में लागू किया जाएगा। यह दर्शाता है कि भारत न केवल अपने देश में बल्कि विदेशों में भी डिजिटल पेमेंट सिस्टम के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभा रहा है। इस प्रक्रिया के माध्यम से, भारत ने वैश्विक स्तर पर अपनी डिजिटल पहचान को मजबूत किया है, जिससे अन्य देशों के साथ डिजिटल कनेक्टिविटी और सहयोग के नए आयाम खुलेंगे। भारत की इस पहल से न केवल आर्थिक लाभ होगा बल्कि यह भारत को वैश्विक फिनटेक नेता के रूप में स्थापित करेगा। यह डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है, जिससे भारत की डिजिटल क्षमता और इनोवेशन की कहानी विश्व स्तर पर पहचानी जाएगी।

Read Also- 2024 का पहला सूर्य ग्रहण: जानिए इसके अद्भुत प्रभाव और रहस्यमयी नियम!

Advertisement

इस प्रगति के साथ ही, भारत ने दिखा दिया है कि वह न केवल अपने नागरिकों के लिए डिजिटल सुविधाओं को सुलभ बना रहा है, बल्कि वैश्विक समुदाय के लिए भी एक मॉडल प्रस्तुत कर रहा है। यह भारत की विदेश नीति और डिजिटल नीति के संगम को दर्शाता है, जिससे अन्य देश भी प्रेरणा ले सकते हैं। इस प्रगति के साथ ही, भारत ने दिखा दिया है कि वह न केवल अपने नागरिकों के लिए डिजिटल सुविधाओं को सुलभ बना रहा है, बल्कि वैश्विक समुदाय के लिए भी एक मॉडल प्रस्तुत कर रहा है। यह भारत की विदेश नीति और डिजिटल नीति के संगम को दर्शाता है, जिससे अन्य देश भी प्रेरणा ले सकते हैं।

Advertisement

अंततः, यह कहा जा सकता है कि भारत ने डिजिटल पेमेंट सिस्टम, विशेषकर UPI के माध्यम से, वैश्विक मंच पर अपनी एक मजबूत पहचान स्थापित की है। इससे भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था को नई दिशा और गति मिलेगी, जो भविष्य में देश की आर्थिक प्रगति में एक महत्वपूर्ण योगदान देगी।

Must Read- गलत UPI ट्रांसफर: चिंता नहीं, समाधान है!

Advertisement

“सम्यक् तेजो विनिर्मितम्, विश्वे भारतमुच्यते।
डिजिटलं विश्वसंयोगः, सर्वत्राविष्कृतो भवेत्॥”

उचित तेज से निर्मित, पूरी दुनिया में भारत कहलाया जाता है। डिजिटल विश्व का संयोजन, हर जगह प्रकट होता है।” यह श्लोक भारत द्वारा डिजिटल इंडिया पहल और UPI सिस्टम के वैश्विक स्तर पर विस्तार की सफलता को दर्शाता है। यह भारत के डिजिटल नवाचार और वैश्विक सम्बंधों में उसकी बढ़ती भूमिका को प्रकाशित करता है।

Advertisement