Connect with us

विज्ञान

2024 का पहला सूर्य ग्रहण: जानिए इसके अद्भुत प्रभाव और रहस्यमयी नियम!

Published

on

2024 का पहला सूर्य ग्रहण
2024 का पहला सूर्य ग्रहण

साल 2024 में पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहे हैं, जिनका धार्मिक और ज्योतिषीय महत्व है। यह सूर्य ग्रहण 08 अप्रैल सोमवार को लगेगा, जिसकी शुरुआत रात 09 बजकर 12 मिनट से होगी और यह मध्यरात्रि 01 बजकर 25 मिनट तक रहेगा। इस ग्रहण की अवधि कुल 4 घंटे 25 मिनट की होगी। यह ग्रहण मीन राशि और रेवती नक्षत्र में लगेगा। इसे खग्रास सूर्य ग्रहण भी कहा जाता है, जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुजरता है और चंद्रमा सूरज की रोशनी को धरती तक पहुंचने से रोक देता है।

Read also- “खुलासा: सपिंड विवाह पर दिल्ली हाई कोर्ट का चौंकाने वाला फैसला!”

Advertisement

हिंदू मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण काल में भोजन करना वर्जित माना जाता है, हालांकि ग्रहण काल में श्राद्ध किया जा सकता है। सूतक काल के नियम बालक, वृद्ध या रोगी व्यक्तियों पर लागू नहीं होते। इसके अलावा, सूर्य ग्रहण को नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए और इस दौरान धार्मिक स्थलों पर जाना या यात्रा करना भी सही नहीं माना जाता। सूर्य ग्रहण के दौरान बाल या नाखून काटने, तेल मालिश करने की भी मनाही है।

इस बारे में कोई दोहराई नहीं की सूर्य ग्रहण एक अद्भुत खगोलीय घटना, जिसका प्रभाव केवल आकाशीय दृश्यों तक सीमित नहीं है, बल्कि यह प्राकृतिक जगत और जीव-जंतुओं पर भी अपनी छाप छोड़ता है। जब पूर्ण सूर्य ग्रहण होता है, तो इसके प्रभाव से जानवरों में व्यवहारिक परिवर्तन देखे जा सकते हैं। ये परिवर्तन उनके लिए भ्रमित करने वाले होते हैं क्योंकि वे दिन को रात समझ बैठते हैं। इस घटना के दौरान, जानवर अपनी दिनचर्या में बदलाव करने लगते हैं, जैसे कि वे अपने आश्रयों में लौटने लगते हैं या रात्रि संबंधी गतिविधियां शुरू कर देते हैं।

Advertisement

Read Also- ईरान का अनसुना सच: खुलासा जो आपको हैरान कर देगा!

सूर्य ग्रहण के दौरान तापमान में भी गिरावट आती है, जिसका असर जानवरों पर पड़ता है। वे इस तापमान परिवर्तन के कारण अलग तरह से प्रतिक्रिया देते हैं। नासा और पेंसिल्वेनिया यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए शोधों में यह पाया गया कि सूर्य ग्रहण के दौरान तापमान में भारी गिरावट होती है, जिससे जानवरों की दिनचर्या में बदलाव आता है। सूर्य ग्रहण के दौरान आसमान में दिखाई देने वाले तारे भी अलग होते हैं। इस दौरान, वे तारे भी दिखाई देते हैं जो आमतौर पर नहीं दिखते। यह घटना लाइट के रिफ्लेक्शन के कारण होती है, जिससे हमें वे तारे भी दिखाई देते हैं जो सामान्यतः छिपे होते हैं। इस घटना के दौरान, तारों की रोशनी हमारी धरती तक मुड़ कर आती है, जिससे हमें विभिन्न तारे दिखाई देते हैं।

Advertisement

Read also- क्या AI परमाणु युद्ध शुरू करेगा?

इस प्रकार, सूर्य ग्रहण न केवल एक खगोलीय घटना है, बल्कि यह प्राकृतिक जगत पर भी अपना विशेष प्रभाव डालता है। यह जानवरों की दिनचर्या, व्यवहार और प्राकृतिक वातावरण पर अपना असर छोड़ता है, जिससे हमें इस घटना की गहराई और महत्व का अंदाजा होता है। सूर्य ग्रहण के दौरान होने वाले ये परिवर्तन न केवल वैज्ञानिकों के लिए बल्कि सामान्य जन के लिए भी अध्ययन का विषय हैं।

Advertisement

“सूर्यग्रहणे महती विपर्यासो भवति चराचरे।

ज्योतिषां चिन्तनं दीप्तं, धर्मशास्त्रेषु चार्चनम्॥”

Advertisement

अर्थ – “सूर्य ग्रहण के समय चराचर जगत में बड़ा परिवर्तन होता है। ज्योतिषियों का चिंतन गहरा होता है और धर्मशास्त्रों में इसकी आराधना की जाती है।” यह श्लोक सूर्य ग्रहण के दौरान होने वाले प्राकृतिक और आध्यात्मिक परिवर्तनों का वर्णन करता है। यह बताता है कि कैसे सूर्य ग्रहण के समय न केवल प्रकृति में बदलाव होता है, बल्कि ज्योतिष और धर्मशास्त्रों में भी इसका विशेष महत्व होता है। यह श्लोक उसी विषय से संबंधित है जिस पर लेख में चर्चा की गई है, जहां सूर्य ग्रहण के दौरान होने वाले खगोलीय, प्राकृतिक, और धार्मिक पहलुओं का वर्णन किया गया है। इस प्रकार, यह श्लोक और लेख दोनों ही सूर्य ग्रहण के महत्व और इसके प्रभावों को प्रकट करते हैं।

Advertisement