Connect with us

देश

Pantoea Tagorei: कृषि क्रांति की नई आशा

Published

on

Pantoea Tagorei

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे ‘Pantoea Tagorei’ के बारे में, जो हाल ही में विश्व भारती विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा खोजी गई एक नई बैक्टीरिया प्रजाति है। इस बैक्टीरिया का नाम नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर के नाम पर ‘Pantoea Tagorei’ रखा गया है। इस शोध में शांति निकेतन के क्षेत्र सोनाझुरी की मिट्टी से और झारखंड के झरिया के कोयला खनन क्षेत्र से इस बैक्टीरिया की खोज की गई। यह बैक्टीरिया मिट्टी से पोटेशियम को कुशलतापूर्वक निकालता है, जो पौधों के विकास में सहायक होता है। इस खोज से न केवल वाणिज्यिक उर्वरकों के उपयोग में कमी आएगी बल्कि यह बैक्टीरिया कृषि की लागत में कटौती करने और फसल की उपज को बढ़ावा देने में भी मदद करेगा।

इस खोज को एसोसिएशन ऑफ माइक्रोबायोलॉजिस्ट ऑफ इंडिया से मान्यता प्राप्त है, जो इसकी महत्वता और वैज्ञानिक स्वीकृति को दर्शाता है। ‘पंतोआ टैगोरी’ की खोज ने न केवल विज्ञान जगत में बल्कि कृषि और पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में भी एक नई उम्मीद जगाई है। यह बैक्टीरिया न सिर्फ पौधों के विकास को बढ़ावा देगा बल्कि स्थायी कृषि प्रथाओं को बढ़ावा देने में भी एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है। इस तरह की खोजें न केवल वैज्ञानिक समुदाय के लिए बल्कि हम सभी के लिए भी उत्साहवर्धक होती हैं, क्योंकि ये हमारे पर्यावरण और भविष्य की स्थिरता के लिए नए द्वार खोलती हैं। ‘पंतोआ टैगोरी’ की खोज ने एक बार फिर से यह साबित किया है कि प्रकृति हमें अनगिनत संभावनाएं प्रदान करती है, और विज्ञान के माध्यम से हम उन्हें खोज और उपयोग कर सकते हैं।

Advertisement

“कृषिं च नान्यत्परमं वदन्ति।”

अर्थ –कहा जाता है कि कृषि से बढ़कर कोई अन्य कार्य नहीं है। यह श्लोक ‘पंतोआ टैगोरी’ की खोज के संदर्भ में बहुत ही प्रासंगिक है। यह बैक्टीरिया, जिसे विश्व भारती विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने खोजा है, कृषि के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी परिवर्तन लाने की क्षमता रखता है। यह श्लोक कृषि के महत्व को रेखांकित करता है, जो कि ‘पंतोआ टैगोरी’ की खोज के माध्यम से और भी अधिक स्पष्ट हो जाता है। इस बैक्टीरिया की खोज से न केवल पौधों के विकास में सहायता मिलेगी बल्कि यह स्थायी कृषि और पर्यावरण संरक्षण की दिशा में भी एक महत्वपूर्ण कदम साबित होगा। इस प्रकार, यह श्लोक और ‘पंतोआ टैगोरी’ की खोज दोनों ही कृषि के प्रति हमारे समर्पण और इसके महत्व को दर्शाते हैं।

Advertisement

यह भी जाने –

रवींद्रनाथ टैगोर कौन थे?

Advertisement

रवींद्रनाथ टैगोर एक भारतीय कवि, लेखक, और दार्शनिक थे जिन्हें उनकी अद्भुत रचनाओं के लिए विश्वविख्यात मान्यता प्राप्त है। वे 1913 में ‘गीतांजलि’ के लिए नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले एशियाई व्यक्ति थे। उनकी रचनाएं भारतीय साहित्य और संगीत में एक अमिट छाप छोड़ गई हैं।

बैक्टीरिया क्या है?

Advertisement

बैक्टीरिया एकल-कोशिकीय, माइक्रोस्कोपिक जीव होते हैं जो विभिन्न आकारों और आकृतियों में पाए जाते हैं। ये जीवाणु पृथ्वी पर हर जगह पाए जाते हैं और विभिन्न प्रकार के पर्यावरणीय और जैविक कार्यों में भाग लेते हैं। बैक्टीरिया रोगजनक भी हो सकते हैं और उपयोगी भी। बैक्टीरिया की खोज 17वीं शताब्दी में एंटोनी वैन लीवेनहॉक द्वारा की गई थी। उन्होंने पहली बार माइक्रोस्कोप का उपयोग करके इन छोटे जीवाणुओं को देखा।

पोटेशियम क्या है?

Advertisement

पोटेशियम एक रासायनिक तत्व है जिसका प्रतीक K है और परमाणु संख्या 19 है। यह एक महत्वपूर्ण खनिज है जो पौधों के विकास और मानव शरीर के सही कार्य के लिए आवश्यक है। पोटेशियम पौधों के लिए एक प्रमुख पोषक तत्व है और उनके विकास और विकसित होने में मदद करता है।

उर्वरक क्या हैं?

Advertisement

उर्वरक वे रासायनिक या प्राकृतिक पदार्थ होते हैं जो मिट्टी में मिलाए जाते हैं ताकि पौधों को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान किए जा सकें। उर्वरक पौधों के विकास को बढ़ावा देने और फसल की उपज को बढ़ाने में मदद करते हैं।

स्थायी कृषि क्या है?

Advertisement

स्थायी कृषि वह प्रक्रिया है जिसमें कृषि प्रथाओं को पर्यावरण के अनुकूल और दीर्घकालिक स्थिरता के लिए डिजाइन किया जाता है। इसमें प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण, जैव विविधता की रक्षा, और खेती की ऐसी तकनीकें शामिल हैं जो पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बिना उत्पादकता बढ़ाती हैं।

पर्यावरण संरक्षण क्या है?

Advertisement

पर्यावरण संरक्षण प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा और संरक्षण की प्रक्रिया है। इसमें प्रदूषण को कम करना, जैव विविधता की सुरक्षा, और प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने के उपाय शामिल हैं। पर्यावरण संरक्षण का उद्देश्य पृथ्वी को स्वस्थ और स्थायी बनाए रखना है।

Advertisement
Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *