Connect with us

देश

भारत (India) की अमर वीरांगनाएं

Published

on

women in india
Indian History, Women Leaders

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के साथ, भारत (India) में हिंदुत्व के पुनर्जागरण की एक नई लहर देखी जा रही है। इस नवीन परिवर्तन के युग में, हिंदू राष्ट्र का वह स्वप्न जो कभी असंभव प्रतीत होता था, अब साकार होता दिख रहा है। इस सांस्कृतिक और धार्मिक पुनर्जागरण के दौरान, महिलाओं की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण और प्रेरणादायक है। इसी संदर्भ में, मराठा साम्राज्य की पांच वीर माताओं की अद्भुत कहानियाँ प्रस्तुत की गई हैं। ये महिलाएं हैं – छत्रपति शिवाजी महाराज की मां राजमाता जीजाबाई, महारानी ताराबाई, महारानी अहिल्याबाई होल्कर, श्रीमंत बायजाबाई शिंदे और रानी लक्ष्मीबाई। इन महिलाओं की गाथाएं हिंदू राष्ट्र की स्त्री शक्ति के प्रतीक के रूप में उभरती हैं।

Read also- क्या होता है Black Hole ?

Advertisement

इनमें सबसे पहले नाम आता है राजमाता जीजाबाई का, इनका सबसे महत्वपूर्ण योगदान उनके पुत्र छत्रपति शिवाजी महाराज की परवरिश में था। उन्होंने शिवाजी को हिंदुत्व के आदर्शों और मराठा साम्राज्य की स्थापना के लिए प्रेरित किया। जीजाबाई ने शिवाजी को धर्म और न्याय के मार्ग पर चलने की शिक्षा दी, जिससे वे एक महान योद्धा और नेता बन सके। उनके नेतृत्व में हिंदवी स्वराज्य की स्थापना हुई, जिसने भारतवर्ष पर अपना भगवा ध्वज लहराया। इसके बाद, महारानी ताराबाई का उल्लेखनीय योगदान आता है, जिन्होंने औरंगजेब के शासनकाल में मराठा शक्ति का नेतृत्व किया। उन्होंने दो दशक तक औरंगजेब को दक्षिण में उलझाए रखा और उनकी शक्तिशाली सेना के सामने भगवा ध्वज को झुकने नहीं दिया।

महारानी अहिल्याबाई होलकर ने मालवा क्षेत्र पर तीन दशक तक शासन किया और हिंदू समाज को स्वतंत्रता की वास्तविक अनुभूति कराई। उन्हें पुण्यश्लोक की उपाधि मिली और आज वे समस्त विश्व में हिंदुओं के लिए देवी दुर्गा के अवतार की तरह हैं। उनका शासन न केवल मालवा तक सीमित था, बल्कि उनकी प्रशासनिक क्षमता और धार्मिक उदारता ने पूरे भारतवर्ष में उनकी प्रतिष्ठा को बढ़ाया।उन्होंने अपने शासनकाल में अनेक मंदिरों और धर्मशालाओं का निर्माण करवाया। उन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण करवाया और धार्मिक तथा सामाजिक कार्यों में अपनी विशेष रुचि दिखाई। उनका शासन न्याय और धर्म के आदर्शों पर आधारित था।

Advertisement

Read Also- हंबोल्ट एनिग्मा क्या है ?

इसके बाद, ग्वालियर की रानी श्रीमंत बायजाबाई शिंदे का नाम आता है, जिन्होंने 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के पीछे अपनी योजना के साथ एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने अपने पति दौलतराव सिंधिया के साथ युद्ध के मैदान में जाकर अदम्य वीरता का प्रदर्शन किया। उनकी रणनीति और नेतृत्व क्षमता ने उन्हें भारतीय इतिहास में एक विशेष स्थान दिलाया। 

Advertisement

अंत में, झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का उल्लेख होता है, जो स्वतंत्रता और वीरता का प्रतीक हैं। उन्होंने अपने प्राणों की आहुति देकर हिंदवी स्वराज के लिए अपना सर्वस्व समर्पित किया। रानी लक्ष्मीबाई ने न केवल झांसी की रक्षा की, बल्कि उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में एक अमिट छाप छोड़ी। उनकी वीरता और साहस ने उन्हें भारतीय इतिहास में एक अद्वितीय स्थान दिलाया। उनका जीवन और संघर्ष आज भी हर भारतीय के लिए प्रेरणा का स्रोत है। रानी लक्ष्मीबाई ने 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में अपनी वीरता और नेतृत्व क्षमता का प्रदर्शन किया। उन्होंने झांसी की रक्षा की और अंग्रेजों के खिलाफ अदम्य साहस के साथ लड़ाई लड़ी। उनका प्रसिद्ध नारा “मैं अपनी झांसी नहीं दूंगी” भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का एक प्रतीक बन गया। उनकी वीरता और बलिदान ने उन्हें भारतीय इतिहास में एक अमर स्थान दिलाया।

इन पांच महान महिलाओं की कहानियां हिंदू राष्ट्र की स्त्री शक्ति का संकेत छिपा है। उनके जीवन और कार्यों से हमें यह समझने का अवसर मिलता है कि जिस हिंदू राष्ट्र का स्वप्न सवा करोड़ भारतीय देख रहे हैं, वह कैसा होगा। इन महिलाओं ने न केवल अपने समय में असाधारण योगदान दिया, बल्कि उन्होंने आने वाली पीढ़ियों के लिए एक अमर विरासत छोड़ी है। उनकी वीरता, दृढ़ता, और समर्पण भारतीय इतिहास के सबसे गौरवशाली पृष्ठों में अंकित हैं और आज भी हमारे लिए प्रेरणा का स्रोत रहेगी। इन महान महिलाओं की गाथाएं हमें यह बताती हैं कि सच्ची शक्ति और साहस किसी लिंग या वर्ग तक सीमित नही होती, बल्कि यह हर व्यक्ति के भीतर निहित होती है। इन महिलाओं की जीवनी हमें यह सिखाती है कि समाज में स्थायी और सार्थक परिवर्तन के लिए दृढ़ निश्चय और अदम्य साहस की आवश्यकता होती है। उनके जीवन के प्रत्येक पहलू से हमें यह सीखने को मिलता है कि चाहे कितनी भी बाधाएं क्यों न हों, निष्ठा और समर्पण से हर चुनौती का सामना किया जा सकता है।

Advertisement

Read also- प्रोबा-3 मिशन: क्यूँ यह भारत और यूरोप के लिए है खास?

इस प्रकार, इन पांच महान महिलाओं की कहानियां हमें इतिहास के उन पन्नों में ले जाती हैं, जहां वीरता, बुद्धिमत्ता, और नेतृत्व की अनूठी मिसालें स्थापित की गईं। उनका जीवन हमें यह दर्शाता है कि महिलाएं किसी भी क्षेत्र में, चाहे वह राजनीति हो, समाज हो, या युद्ध का मैदान हो, अपनी असीम क्षमताओं का प्रदर्शन कर सकती हैं और समाज को नई दिशा दे सकती हैं। उनकी वीर गाथाएं आज भी हमें प्रेरित करती हैं और हमारे हृदय में नई उम्मीद और साहस का संचार करती हैं। इन महान महिलाओं की कहानियां हमें यह भी बताती हैं कि समाज में स्थायी और सार्थक परिवर्तन के लिए महिलाओं की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण होती है। ये महिलाएं न केवल युद्ध के मैदान में वीरता दिखाने वाली योद्धा थीं, बल्कि उन्होंने अपने बुद्धिमत्ता और दूरदर्शिता से समाज और राष्ट्र के निर्माण में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनकी नीतियां और शासन कौशल ने न केवल उनके समय के समाज को प्रभावित किया, बल्कि आज भी उनके आदर्श हमें मार्गदर्शन प्रदान करते हैं।

Advertisement

“यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः।

यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफलाः क्रियाः॥”

Advertisement

अर्थ –“जहां नारियों का सम्मान किया जाता है, वहां देवता निवास करते हैं। जहां नारियों का सम्मान नहीं किया जाता, वहां सभी क्रियाएं निष्फल होती हैं।”यह श्लोक इस लेख से संबंधित है क्योंकि यह नारी के सम्मान की महत्ता को दर्शाता है। राजमाता जीजाबाई, महारानी ताराबाई, महारानी अहिल्याबाई होलकर, श्रीमंत बायजाबाई शिंदे, और रानी लक्ष्मीबाई – ये सभी महिलाएं भारतीय इतिहास में उनके योगदान और सम्मान की जीवंत मिसाल हैं। इन महिलाओं के सम्मान और उनके कार्यों ने न केवल उनके समय में समाज को प्रभावित किया, बल्कि आज भी हमें प्रेरित करते हैं। इस श्लोक के माध्यम से यह संदेश मिलता है कि जब नारियों का सम्मान और पूजन किया जाता है, तब समाज में सकारात्मकता और प्रगति का वातावरण बनता है। इन महिलाओं के जीवन और उनके कार्यों ने यह सिद्ध किया है कि नारी का सम्मान और उनकी भूमिका समाज के विकास और संरक्षण में अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस प्रकार, यह श्लोक और इस लेख दोनों ही नारी के महत्व और उनके सम्मान की आवश्यकता को रेखांकित करते हैं।

इस लेख में एक बात समझना आवश्यक है की इन सभी वीरांगनाओं का सही चित्रण एक लेख में करना संभव नहीं है क्यूंकि इतनी विलक्षण प्रतिभाएं जो पुरे भारत समाज का सिरमौर है उनके बारे में जितना लिखा जाए उतना कम है।  ये सभी हमारे लिए माँ स्वरूपा हैं, हमारा गुरुर है और हमारे लिए प्रेरणा है। 

Advertisement
Continue Reading
Advertisement