Connect with us

टेक-ऑटो

साइबर सुरक्षा की चुनौतियाँ :भारतीय नागरिकों का data कैसे लीक होता है?

Published

on

Cyber Security, Digital India

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे आखिर “भारतीय नागरिकों का data कैसे लीक होता है?” और भारत में बढ़ते साइबर हमलों और डेटा उल्लंघन की गंभीरता पर प्रकाश डालेंगे। जैसे-जैसे दुनिया डिजिटलीकरण की ओर बढ़ रही है, साइबर हमलों का खतरा भी बढ़ रहा है, और भारत इससे अछूता नहीं है। अमेरिकी कंपनी ‘रिसिक्योरिटी’ का कहना है कि भारतीयों के निजी डेटा डार्क वेब पर उपलब्ध हैं। इस डेटा सेट का विक्रेता 55% भारतीय आबादी की सत्यापन योग्य, संवेदनशील सूचना प्रदान करने का दावा कर रहा था, जिसमें लोगों के नाम, फोन नंबर, आधार नंबर, पासपोर्ट नंबर और पते जैसी व्यक्तिगत पहचान-योग्य जानकारी शामिल थी।

भारतीय नागरिकों का data विभिन्न तरीकों से लीक हो सकता है, और इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। सबसे पहले, फिशिंग हमले जहां उपयोगकर्ताओं को धोखाधड़ी वाले ईमेल या संदेश भेजे जाते हैं जो उन्हें अपनी निजी जानकारी जैसे लॉगिन क्रेडेंशियल्स, बैंक विवरण आदि साझा करने के लिए उकसाते हैं। दूसरा, असुरक्षित नेटवर्क जैसे कि खुले वाई-फाई नेटवर्क का उपयोग करते समय डेटा इंटरसेप्ट हो सकता है। तीसरा, मैलवेयर और वायरस जो उपयोगकर्ताओं के डिवाइस में घुसकर उनके डेटा को चुरा लेते हैं। इसके अलावा, डेटा लीक अक्सर अंदरूनी सूत्रों द्वारा भी किया जाता है जो जानबूझकर या अनजाने में संवेदनशील जानकारी को उजागर कर देते हैं। अंत में, अपर्याप्त सुरक्षा उपाय और नीतियां भी डेटा उल्लंघन का कारण बन सकती हैं। इसलिए, डेटा सुरक्षा के लिए जागरूकता, सतर्कता और उचित सुरक्षा प्रथाओं का पालन अत्यंत महत्वपूर्ण है।

Advertisement

भारत में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की एक बड़ी और बढ़ती आबादी है, और वर्ष 2025 तक यह संख्या 900 मिलियन होने की उम्मीद है। इस बढ़ती डिजिटल आबादी के साथ, साइबर सुरक्षा की चुनौतियां भी बढ़ रही हैं। भारत की आवश्यक सेवाओं से संबंधित महत्वपूर्ण अवसंरचनाएं जैसे कि पावर ग्रिड, परिवहन प्रणालियां, और संचार नेटवर्क साइबर हमलों के प्रति संवेदनशील हैं। इसके अलावा, वित्तीय क्षेत्र भी साइबर हमलों की उच्च जोखिम का सामना कर रहा है।

Read this also- क्या AI परमाणु युद्ध शुरू करेगा?

Advertisement

साइबर हमले न केवल वित्तीय हानि का कारण बनते हैं बल्कि व्यक्तिगत और सरकारी डेटा की गोपनीयता को भी खतरे में डालते हैं। डेटा उल्लंघन से व्यक्तियों और संगठनों की गोपनीयता और सुरक्षा के लिए गंभीर परिणाम उत्पन्न हो सकते हैं। साइबर हमलों के द्वारा साइबर जासूसी भी की जाती है, जो अन्य देशों या संस्थाओं की जासूसी करने या उनके हितों को नुकसान पहुंचाने के लिए साइबर हमलों का उपयोग करने की प्रक्रिया है।

भारत में साइबर सुरक्षा परिदृश्य में सुधार के लिए कई पहलें और नीतियां अपनाई गई हैं, जैसे राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा नीति, साइबर सेल एवं साइबर अपराध जांच इकाइयां, साइबर क्राइम रिपोर्टिंग प्लेटफार्म, और क्षमता निर्माण एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम। ये प्रयास अभी भी अपर्याप्त और खंडित हैं क्योंकि भारत को तकनीकी कर्मचारियों, साइबर फॉरेंसिक सुविधाओं, साइबर सुरक्षा मानकों, और विभिन्न हितधारकों के बीच समन्वय की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

Advertisement

भारत को अपने मानव और तकनीकी संसाधनों को विकसित करने, साइबर सुरक्षा के उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने, सर्वोत्तम अभ्यास एवं मानकों को अपनाने, और विभिन्न एजेंसियों एवं क्षेत्रों के बीच सहयोग एवं सूचना साझेदारी को बढ़ावा देने में अधिक निवेश करने की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त, भारत को साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सहयोग का विस्तार करना चाहिए, क्योंकि साइबर हमले राष्ट्रीय सीमाओं तक सीमित नहीं हैं और पूरे वैश्विक समुदाय को प्रभावित कर रहे हैं। इसलिए भारत को अन्य देशों और संयुक्त राष्ट्र, अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार संघ, इंटरपोल, और साइबर विशेषज्ञता पर वैश्विक मंच जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ और अधिक संलग्न होने की जरूरत है।

Read this also-Display: कौन सा चुनें – LED बनाम LCD बनाम AMOLED बनाम OLED?

Advertisement

भारत को साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में व्यापक और अद्यतन कानून बनाने की आवश्यकता है जो साइबर आतंकवाद, साइबर युद्ध, साइबर जासूसी, और साइबर धोखाधड़ी जैसे सभी पहलुओं को दायरे में ले। मौजूदा विधिक ढांचे को सुदृढ़ करना और समय-समय पर संशोधन करते रहना भी जरूरी है। सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) अधिनियम 2000, जो भारत का प्राथमिक साइबर अपराध नियंत्रण कानून है, को नई चुनौतियों और खतरों से निपटने के लिए कई बार संशोधित किया गया है।

ज्ञानेनैव तु कैवल्यम्।

Advertisement

अर्थ – यह श्लोक “ज्ञानेनैव तु कैवल्यम्” का अर्थ है कि ज्ञान से ही मोक्ष या मुक्ति संभव है। इसे साइबर सुरक्षा के संदर्भ में देखें तो, यह बताता है कि उचित ज्ञान और समझ के माध्यम से ही हम डेटा उल्लंघन और साइबर हमलों के खतरों से मुक्ति पा सकते हैं। जैसा कि आर्टिकल में बताया गया है, भारतीय नागरिकों के डेटा की सुरक्षा और साइबर सुरक्षा की चुनौतियों का सामना करने के लिए जागरूकता, शिक्षा, और सही नीतियों का होना अत्यंत आवश्यक है। इस श्लोक के माध्यम से हमें यह समझ आता है कि साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में ज्ञान और सतर्कता ही हमें डिजिटल खतरों से बचा सकती है और एक सुरक्षित डिजिटल भविष्य की ओर ले जा सकती है।

यह भी जानें –

Advertisement
  1. साइबर सुरक्षा क्या है?  

   साइबर सुरक्षा इंटरनेट और नेटवर्क से जुड़े सिस्टम्स की सुरक्षा के उपायों का एक समूह है। इसका इतिहास 1970 के दशक से शुरू होता है जब पहली बार वायरस और मैलवेयर की खोज हुई थी। तब से, साइबर सुरक्षा ने तकनीकी विकास के साथ विकसित होकर आज के जटिल और विस्तृत रूप को प्राप्त किया है।

  1. डेटा उल्लंघन क्या है?

   डेटा उल्लंघन तब होता है जब अनधिकृत व्यक्ति या संस्था किसी संगठन के डेटा तक पहुंच बना लेती है। इसका इतिहास 1980 के दशक में शुरू हुआ जब पहली बार हैकिंग की घटनाएं सामने आईं। तब से, डेटा उल्लंघन की घटनाएं और उनसे बचाव के उपाय दोनों ही अधिक सोफिस्टिकेटेड होते जा रहे हैं।

  1. डिजिटलीकरण क्या है?

   डिजिटलीकरण वह प्रक्रिया है जिसमें जानकारी और सेवाओं को डिजिटल फॉर्मेट में बदला जाता है। इसका इतिहास 1950 के दशक में शुरू हुआ जब पहली बार कंप्यूटर और डिजिटल तकनीक का विकास हुआ। आज, डिजिटलीकरण ने व्यापार, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा और सरकारी सेवाओं सहित हर क्षेत्र में क्रांति ला दी है।

  1. डार्क वेब क्या है?

   डार्क वेब इंटरनेट का वह हिस्सा है जो सामान्य सर्च इंजनों की पहुंच से बाहर है और जहां अक्सर गैरकानूनी गतिविधियां होती हैं। इसका इतिहास 2000 के दशक में शुरू हुआ जब अनामी नेटवर्किंग तकनीकों का विकास हुआ। डार्क वेब गोपनीयता की सुरक्षा और अवैध व्यापार के लिए जाना जाता है।

  1. साइबर हमले क्या हैं?

   साइबर हमले वे क्रियाएँ हैं जिनमें हैकर्स या साइबर अपराधी किसी संगठन के नेटवर्क, सिस्टम या डेटा को नुकसान पहुंचाने, चुराने या बाधित करने के लिए डिजिटल माध्यमों का उपयोग करते हैं। इसका इतिहास 1980 के दशक में शुरू हुआ जब पहली बार कंप्यूटर वायरस और ट्रोजन हॉर्स की खोज हुई। आज, साइबर हमले अधिक जटिल और विनाशकारी हो गए हैं।

  1. राष्ट्रीय सुरक्षा क्या है?

   राष्ट्रीय सुरक्षा एक देश की सीमाओं, नागरिकों, संस्थानों, और आर्थिक स्थिरता की सुरक्षा से संबंधित है। इसमें सैन्य, राजनीतिक, आर्थिक, और अन्य सामरिक उपाय शामिल हैं। इसका इतिहास राष्ट्र-राज्यों के उदय के साथ शुरू होता है और आज यह डिजिटल खतरों और साइबर हमलों के रूप में नई चुनौतियों का सामना कर रहा है।

  1. साइबर अपराध क्या है?  

   साइबर अपराध वह अपराध है जो इंटरनेट या किसी अन्य नेटवर्क का उपयोग करके किया जाता है। इसमें हैकिंग, फिशिंग, डेटा चोरी, और ऑनलाइन धोखाधड़ी शामिल हैं। साइबर अपराध का इतिहास 1970 के दशक में शुरू होता है और आज यह विश्वव्यापी एक बड़ी समस्या बन गया है।

  1. गोपनीयता क्या है? 

   गोपनीयता व्यक्तिगत जानकारी और जीवन के निजी पहलुओं की सुरक्षा से संबंधित है। यह व्यक्तियों को उनकी जानकारी के उपयोग और वितरण पर नियंत्रण देती है। गोपनीयता का इतिहास मानव सभ्यता के शुरुआती दिनों से जुड़ा है, लेकिन डिजिटल युग में इसका महत्व और भी बढ़ गया है।

  1. साइबर जासूसी क्या है?  

   साइबर जासूसी वह प्रक्रिया है जिसमें साइबर हमलावर गुप्त रूप से दूसरे देशों, संगठनों, या व्यक्तियों की जानकारी चुराने के लिए डिजिटल तकनीकों का उपयोग करते हैं। इसका इतिहास 1980 के दशक में शुरू होता है और आज यह राष्ट्रीय सुरक्षा और व्यापारिक गोपनीयता के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है।