Connect with us

विदेश

दक्षिण कोरिया में भारतीयों (Indians) को बनाया जा रहा निशाना 

Published

on

South Korea, Racism, Indians

आज हम एक ऐसे विषय पर चर्चा करेंगे जो न केवल भारत और दक्षिण कोरिया के बीच संबंधों को प्रभावित करता है, बल्कि वैश्विक समुदाय के लिए भी एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। यह विषय है दक्षिण कोरिया में Indians के साथ हो रहे नस्लवाद का। दक्षिण कोरिया, जो अपनी तकनीकी उन्नति, सांस्कृतिक धरोहर और विकसित समाज के लिए जाना जाता है, वहां भारतीयों के साथ हो रहे भेदभाव की घटनाएं विश्व समुदाय के लिए चिंता का विषय हैं।

भारत और दक्षिण कोरिया के बीच संबंध वर्षों से मजबूत होते आए हैं। चाहे वह व्यापार हो, राजनीतिक संबंध हों या सांस्कृतिक आदान-प्रदान, दोनों देशों ने हमेशा एक-दूसरे का समर्थन किया है। लेकिन, जब बात आती है व्यक्तिगत स्तर पर तो कुछ अलग ही तस्वीर सामने आती है। विभिन्न वीडियो और ब्लॉग्स के माध्यम से यह सामने आया है कि दक्षिण कोरिया में कुछ स्थानों पर भारतीयों को नस्लीय भेदभाव का सामना करना पड़ रहा है। चाहे वह क्लब हों या रेस्तरां, कुछ जगहों पर Indians का प्रवेश वर्जित है। यहां तक कि कुछ दुकानों में भारतीयों द्वारा छुए गए कपड़ों को तुरंत साफ किया जाता है, मानो उन्होंने कुछ अशुद्ध छू लिया हो।

Advertisement

Read also-Nuclear Power Plant on the Moon: मानव बस्ती की नई संभावनाएं

इसके अलावा, दक्षिण कोरिया की मीडिया ने भी भारत की छवि को नकारात्मक रूप से प्रस्तुत किया है। जहां एक ओर भारतीय संस्कृति और बॉलीवुड को वहां के लोग पसंद करते हैं, वहीं दूसरी ओर भारत की गरीबी और अन्य समस्याओं को अधिक उजागर किया जाता है। यह सच है कि हर देश में अच्छे और बुरे लोग होते हैं, और हर कोरियन नस्लवादी नहीं होता। लेकिन, जो नस्लवाद की घटनाएं हो रही हैं, वे चिंताजनक हैं और इन पर ध्यान देने की आवश्यकता है। भारतीयों के साथ हो रहे इस व्यवहार को सुधारने के लिए दोनों देशों को मिलकर काम करना होगा।

Advertisement

अब अगर हम दक्षिण कोरिया के समाज की बात करें, तो वहां का समाज बहुत ही विकसित और आधुनिक है। लेकिन इसके साथ ही, वहां के लोग अपनी संस्कृति और परंपराओं के प्रति बहुत समर्पित हैं। यह समर्पण कभी-कभी अतिरिक्त रूप ले लेता है और दूसरे समुदायों के प्रति असहिष्णुता का कारण बनता है। दक्षिण कोरिया में लोग अपने रूप-रंग और शारीरिक आकर्षण को लेकर बहुत सजग रहते हैं। इसके लिए वे प्लास्टिक सर्जरी जैसे कदम भी उठाते हैं। यह सजगता कभी-कभी अन्य समुदायों के प्रति नकारात्मक भावना का रूप ले लेती है।

Read also- Tesla Robot का कर्मचारी पर हमला: क्या ये खतरे की घंटी है?

Advertisement

यह कहना गलत नहीं होगा की संबंधों की मजबूती केवल राजनीतिक और व्यापारिक स्तर पर नहीं होती, बल्कि व्यक्तिगत स्तर पर भी होनी चाहिए। दोनों देशों को इस दिशा में काम करने की आवश्यकता है, ताकि व्यक्तिगत स्तर पर भी सम्मान और समझदारी का वातावरण बन सके। यह न केवल दोनों देशों के बीच के संबंधों को मजबूत करेगा, बल्कि वैश्विक समुदाय के लिए भी एक सकारात्मक संदेश भेजेगा।

“वसुधैव कुटुम्बकम्।”

Advertisement

अर्थ –“सारा विश्व एक परिवार है।” यह श्लोक विश्व की एकता और सामाजिक सद्भाव की भावना को दर्शाता है। यह शिक्षा देता है कि हम सभी एक ही विश्व परिवार के सदस्य हैं और हमें एक-दूसरे के प्रति सम्मान और सहानुभूति रखनी चाहिए। इस लेख में दक्षिण कोरिया में भारतीयों के साथ हो रहे नस्लवाद की चर्चा की गई है, जो इस वैश्विक परिवार की भावना के विपरीत है। “वसुधैव कुटुम्बकम्” का संदेश यह है कि हमें नस्ल, धर्म, या राष्ट्रीयता के आधार पर भेदभाव नहीं करना चाहिए, बल्कि सभी को एक समान मानवीय सम्मान और अधिकार प्रदान करने चाहिए। इस तरह, यह श्लोक लेख के विषय के साथ गहराई से संबंधित है और एक समावेशी और सम्मानजनक विश्व समुदाय की ओर अग्रसर होने का आह्वान करता है।

यह भी जानें –

Advertisement

दक्षिण कोरिया, जिसे आधिकारिक तौर पर गणराज्य कोरिया कहा जाता है, पूर्वी एशिया में स्थित एक विकसित और आधुनिक देश है। यह देश अपनी अद्भुत तकनीकी प्रगति, उच्च जीवन स्तर, और शिक्षा के उच्च मानकों के लिए विश्वविख्यात है। सियोल, इसकी राजधानी, एक विशाल महानगरीय शहर है जो अपनी आधुनिक वास्तुकला और उच्च-गति इंटरनेट के लिए प्रसिद्ध है। दक्षिण कोरिया की संस्कृति और परंपरा भी बहुत समृद्ध है, जिसमें कोरियाई संगीत, नृत्य, और खान-पान की अपनी विशिष्ट शैली है। कोरियाई भाषा, हांगुल, विश्व में अपनी वैज्ञानिक और तार्किक वर्णमाला के लिए प्रसिद्ध है।

दक्षिण कोरिया अपने इतिहास और विरासत को भी संजोए हुए है। यहाँ के पारंपरिक हानोक गांव, शांत बौद्ध मठ, और ऐतिहासिक पैलेस इसकी प्राचीन संस्कृति की गवाही देते हैं। दक्षिण कोरिया की आर्थिक प्रगति भी काबिले तारीफ है, जिसने इसे विश्व की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में से एक बना दिया है। यहाँ की कंपनियाँ जैसे सैमसंग, हुंडई, और एलजी विश्वव्यापी रूप से प्रसिद्ध हैं।

Advertisement

इसके अलावा, दक्षिण कोरिया का के-पॉप संगीत और के-ड्रामा विश्व भर में लोकप्रिय हैं, जिसने इसकी सांस्कृतिक पहचान को और भी मजबूत किया है। यहाँ का खान-पान, जिसमें किमची, बिबिम्बाप, और बुलगोगी शामिल हैं, विश्व भर के खाने के शौकीनों का मन मोह लेता है। दक्षिण कोरिया अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए भी प्रसिद्ध है, जिसमें जेजू द्वीप, सियोराक्सन राष्ट्रीय उद्यान, और अनेक सुंदर समुद्र तट शामिल हैं।

अंततः, दक्षिण कोरिया एक ऐसा देश है जो अपनी आधुनिकता और परंपरा का अद्भुत मिश्रण प्रस्तुत करता है। यह अपनी तकनीकी उन्नति, सांस्कृतिक विविधता, और आर्थिक प्रगति के साथ विश्व मंच पर एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। दक्षिण कोरिया न केवल एशिया में बल्कि पूरे विश्व में अपनी विशिष्ट पहचान और प्रभाव के साथ एक प्रेरणास्रोत है।

Advertisement
Continue Reading
Advertisement