Connect with us

देश

Taj Hotel – कभी 30 रुपए हुआ करता था किराया!

Published

on

भारत के सबसे प्रतिष्ठित होटलों में से एक है Taj Hotel, ये न केवल मुंबई की शान है बल्कि यह भारतीय आतिथ्य उद्योग का एक चमकता सितारा भी है। इसकी कहानी सिर्फ एक होटल के निर्माण की नहीं है बल्कि यह भारतीय संस्कृति और उसकी अतिथि देवो भवः की परंपरा का प्रतीक है।

Taj Hotel का संकल्पना और निर्माण

Advertisement

इस गौरवशाली Taj Hotel की स्थापना की कहानी टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा के एक सपने से शुरू होती है। 19वीं शताब्दी के अंत में, जब भारत ब्रिटिश उपनिवेश था तब टाटा को मुंबई के एक प्रमुख होटल वॉटसन होटल में जाने से  सिर्फ इसलिए रोक दिया गया क्योंकि वे भारतीय थे। इस घटना ने उन्हें इतना प्रेरित किया कि उन्होंने भारत में एक ऐसे ही होटल की स्थापना करने का निश्चय किया जो विश्व स्तरीय सुविधाओं के साथ-साथ भारतीय गौरव भी हो। इसी सोच के साथ सन 1898 में ताज होटल का निर्माण शुरू हुआ और 1903 में इसे जनता के लिए खोल दिया गया। इसके आर्किटेक्ट रावसाहेब वैद्य और डी.एन. मिर्जा ने इसे एक अद्वितीय भव्यता प्रदान की जो आज भी देश के लोगों के दिलो में जगह बनाये हुए है। 

आर्थिक और सांस्कृतिक महत्व

Advertisement

Taj Hotel के निर्माण में उस समय 4-5 करोड़ रुपये का निवेश किया गया था, जो उस समय के हिसाब से एक बड़ी राशि थी। यह मुंबई की पहली ऐसी इमारत थी जिसमें बिजली की सुविधा दी गयी थी और यहां कई तरह के विदेशी उपकरणों का भी इस्तेमाल किया गया था। इस होटल ने भारत के आजादी के आंदोलन के दौरान भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। पहले विश्व युद्ध के समय इसे अस्पताल में बदल दिया गया था और यहां स्वतंत्रता आंदोलन के नेता भी एकत्रित हुआ करते थे।

आधुनिक समय में Taj Hotel

Advertisement

आज अगर देखे तो Taj Hotel मुंबई के सबसे महंगे होटलों में से एक है। जहां पहले इसके कमरों का किराया केवल 30 रुपये हुआ करता था वहीं अब यह 30,000 से लाखों रुपये तक हो सकता है। इसके प्रत्येक कमरे और सुइट की डिजाइन और सुविधाएं विश्व स्तरीय हैं।

Read Also- New Sim Card Rule: भारत के नए सिम कार्ड नियम में क्या होगा?

Advertisement

सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्व

Taj Hotel ने न केवल भारतीय आतिथ्य उद्योग में एक नया अध्याय जोड़ा है बल्कि यह भारतीय संस्कृति और इतिहास का भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है। इसकी भव्यता और उत्कृष्टता भारतीयों की सफलता की कहानी कहती है।

Advertisement

इस अद्वितीय यात्रा को संस्कृत के श्लोक “उद्यमेन हि सिद्ध्यन्ति कार्याणि न मनोरथैः” से व्यक्त किया जा सकता है, जिसका अर्थ है “प्रयास से ही कार्य सिद्ध होते हैं, न कि केवल इच्छाओं से”। यह श्लोक Taj Hotel के निर्माण और उसकी सफलता की गाथा को सही मायने में दर्शाता है। इसका अर्थ यह है कि सपने और इच्छाएं तभी साकार होती हैं, जब उन्हें सच्चे प्रयास और दृढ़ संकल्प से संजोया जाता है। ताज होटल की यह यात्रा इसी बात का प्रमाण है।

Taj Hotel की विशेषताएं और उत्कृष्ट सेवाएं

Advertisement

Taj Hotel की विशेषता इसकी उत्कृष्ट सेवाओं में निहित है। होटल विश्व स्तरीय भोजनालयों, लक्जरी स्पा, आधुनिक जिम और सम्मेलन कक्षों से सुसज्जित है। इसका आंतरिक सज्जा और वास्तुकला भारतीय इतिहास और संस्कृति की झलक प्रदान करते हैं।

Read also- Deepfake से डरे या सतर्क रहे, भारत में मचा दिया है हलचल

Advertisement

Taj Hotel का भविष्य और विकास

आधुनिक युग में Taj Hotel ने अपनी परंपरागत विरासत को संजोए रखते हुए कई नई तकनीक और आधुनिक सेवाओं को अपनाया है। होटल प्रबंधन ने पर्यावरणीय स्थिरता और सामाजिक जिम्मेदारी के प्रति भी वचनबद्धता दिखाई है। आज के युग में Taj Hotel न केवल एक आवास स्थल है बल्कि यह एक ऐसा स्थान है जहां इतिहास, संस्कृति, लग्जरी और आतिथ्य का सुंदर समागम होता है। यह होटल न सिर्फ भारतीयों के लिए बल्कि विश्व भर के यात्रियों के लिए भी एक आकर्षण का केंद्र बन गया है।

Advertisement
Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *