Connect with us

देश

भारत (India) की रुपये में तेल भुगतान की ऐतिहासिक छलांग

Published

on

India's strategic move to pay for oil in rupees

भारत ने हाल ही में एक ऐतिहासिक कदम उठाते हुए संयुक्त अरब अमीरात (UAE) को कच्चे तेल की खरीद के बदले पहली बार रुपये में भुगतान किया है। यह कदम भारतीय राष्ट्रीय मुद्रा रुपये के उपयोग को बढ़ावा देने और डॉलर की मांग को कम करने के लिए उठाया गया है। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर वैश्विक मुद्रा का असर कम हो सकेगा। India अपनी 85 प्रतिशत से अधिक तेल जरूरतों को पूरा करने के लिए आयात पर निर्भर है, और इसके लिए उसे बड़े पैमाने पर डॉलर में भुगतान करना होता है। इंडियन आयल कारपोरेशन (IOC) ने अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी (ADNOC) से 10 लाख बैरल कच्चे तेल की खरीद का भुगतान भारतीय रुपये में किया है। इसके अलावा, रूस से आयात किए गए क्रूड ऑयल के कुछ हिस्से का भी भुगतान रुपये में किया गया है।

India का यह निर्णय भूराजनीतिक और आर्थिक तनाव के बीच आया है, क्योंकि अमेरिका ने रूस और ईरान के साथ डॉलर में व्यापार को एकतरफा प्रतिबंधित कर दिया है। इससे पहले, दिसंबर में ही प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और केन्याई राष्ट्रपति विलियम रूटो ने अपने देशों में संबंधित एजेंसियों को भारतीय रुपये का उपयोग करने और दोनों देशों के बीच विकास परियोजनाओं के वित्तपोषण को लागू करने की दिशा में काम करने का निर्देश दिया था। इस ऐतिहासिक कदम से India ने न केवल अपनी मुद्रा को मजबूत बनाने की दिशा में एक बड़ी छलांग लगाई है, बल्कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में डॉलर के प्रभुत्व को चुनौती देने का भी संकेत दिया है। यह कदम भारतीय अर्थव्यवस्था को वैश्विक मुद्रा की गिरावट से कम प्रभावित करने के साथ-साथ अन्य देशों के साथ रुपये में व्यापार करने की दिशा में भी एक महत्वपूर्ण कदम है।

Advertisement

तेल की खरीदारी रुपये में करने के कई लाभ हैं, जो भारतीय अर्थव्यवस्था और विदेशी व्यापार नीतियों पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं:

1. विदेशी मुद्रा भंडार की सुरक्षा:रुपये में तेल खरीदने से भारत को अपने विदेशी मुद्रा भंडार विशेषकर डॉलर का उपयोग कम करने की अनुमति मिलती है। इससे विदेशी मुद्रा भंडार पर दबाव कम होता है और आर्थिक स्थिरता बढ़ती है।

Advertisement

2. मुद्रा विनिमय जोखिम कम होना:डॉलर के बजाय रुपये में भुगतान करने से मुद्रा विनिमय दर के जोखिमों से बचा जा सकता है। यह विनिमय दरों में उतार-चढ़ाव के कारण होने वाली अनिश्चितताओं और लागतों को कम करता है।

3. रुपये का अंतर्राष्ट्रीयकरण:रुपये में तेल खरीदने से भारतीय मुद्रा का अंतर्राष्ट्रीयकरण होता है, जिससे रुपये की वैश्विक स्वीकार्यता और प्रतिष्ठा बढ़ती है। यह अन्य देशों के साथ व्यापार में रुपये के उपयोग को भी बढ़ावा देता है।

Advertisement

4. व्यापार संतुलन में सुधार: रुपये में भुगतान करने से भारत के व्यापार संतुलन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, क्योंकि यह विदेशी मुद्रा के बाहर निकलने को कम करता है और व्यापार घाटे को नियंत्रित करने में मदद करता है।

5. आर्थिक स्वायत्तता:डॉलर की निर्भरता कम करके भारत अपनी आर्थिक स्वायत्तता और संप्रभुता को मजबूत कर सकता है। यह अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय बाजारों में उतार-चढ़ाव और विदेशी नीतियों के प्रभाव से भारत की आर्थिक सुरक्षा को बढ़ाता है।

Advertisement

6. राजनीतिक और आर्थिक संबंधों में मजबूती:रुपये में भुगतान करने से भारत और तेल निर्यातक देशों के बीच राजनीतिक और आर्थिक संबंध मजबूत हो सकते हैं, क्योंकि यह आपसी विश्वास और सहयोग को दर्शाता है।

इन लाभों के माध्यम से रुपये में तेल की खरीदारी भारत को अपनी आर्थिक नीतियों को अधिक स्वतंत्र और स्थिर बनाने में मदद कर सकती है, साथ ही वैश्विक व्यापार में अपनी स्थिति को मजबूत कर सकती है।

Advertisement

रुपये में तेल खरीदने के कुछ संभावित नुकसान निम्नलिखित हो सकते हैं:

1. रुपये की अस्थिरता:अगर भारतीय रुपया अंतरराष्ट्रीय बाजार में अस्थिर रहता है या उसमें अवमूल्यन होता है, तो यह तेल निर्यातक देशों के लिए जोखिम बढ़ा सकता है। इससे उन्हें रुपये में भुगतान स्वीकार करने में हिचकिचाहट हो सकती है।

Advertisement

2. अंतरराष्ट्रीय स्वीकार्यता:चूंकि डॉलर वैश्विक व्यापार की प्रमुख मुद्रा है, रुपये की अंतरराष्ट्रीय स्वीकार्यता और तरलता सीमित हो सकती है। इससे तेल निर्यातक देशों को अपने रुपये को अन्य मुद्राओं में परिवर्तित करने में कठिनाई हो सकती है।

3. व्यापार संतुलन पर प्रभाव: यदि भारत अधिकांश तेल आयात रुपये में करता है, तो इससे विदेशी मुद्रा बाजार में रुपये की मांग में कमी आ सकती है। यह रुपये की विनिमय दर पर दबाव डाल सकता है और व्यापार संतुलन को प्रभावित कर सकता है।

Advertisement

4. अनुबंधों में जटिलता: रुपये में भुगतान करने के लिए नए अनुबंधों की आवश्यकता होगी, जिसमें मुद्रा जोखिमों और विनिमय दरों के उतार-चढ़ाव को संभालने के लिए विशेष शर्तें शामिल हो सकती हैं। यह प्रक्रिया जटिल और समय लेने वाली हो सकती है।

5. विदेशी संबंधों पर प्रभाव: कुछ देश रुपये में भुगतान को स्वीकार करने में हिचकिचा सकते हैं, खासकर यदि उनकी अर्थव्यवस्था डॉलर-आधारित हो। इससे व्यापारिक संबंधों में तनाव आ सकता है।

Advertisement

ये संभावित नुकसान भारत को रुपये में तेल खरीदने की नीति को लागू करते समय सावधानी बरतने और विचारशील रणनीतियाँ अपनाने की आवश्यकता को दर्शाते हैं। हालांकि UAE ने इन सभी संभावनाओं को दरकिनार करते हुए India को रुपए में कच्चा तेल बेचने को राजी हो गया और यह कदम दोनों देशों के संबंधों को और भी मजबूत करेगा।

“अर्थानामर्थिनां चैव योगक्षेमं वहाम्यहम्।”

Advertisement

हिंदी अर्थ: मैं उन लोगों के लिए जो धन की कामना करते हैं, उनके धन की रक्षा और उनकी समृद्धि का भार उठाता हूँ। यह श्लोक भगवद्गीता से लिया गया है और यह धन और समृद्धि के प्रति ईश्वर की संरक्षण भावना को दर्शाता है। इसे इस लेख के संदर्भ में देखें तो, यह श्लोक भारत के उस निर्णय को प्रतिबिंबित करता है जिसमें उसने अपनी मुद्रा, रुपये को मजबूत बनाने और वैश्विक अर्थव्यवस्था में उसकी स्थिति को सुदृढ़ करने के लिए एक ऐतिहासिक कदम उठाया है। यह श्लोक उस विचार को भी दर्शाता है कि समृद्धि और आर्थिक स्थिरता की रक्षा और वृद्धि के लिए सतत प्रयास और नवीन नीतियां महत्वपूर्ण हैं।

Advertisement