Connect with us

विदेश

चिली की आग: 99 की मौत और 1600 लोग बेघर!

Published

on

Chile fire

चिली में हाल ही में उत्पन्न हुई विपरीत जलवायु स्थितियों ने मध्य क्षेत्र के जंगलों में भयावह आग का रूप ले लिया है, जिससे न केवल प्राकृतिक सौंदर्य को नुकसान पहुंचा है बल्कि इसने स्थानीय समुदायों के जीवन में भी विपत्ति बरसाई है। वालपराइसो क्षेत्र, जो अपने तटीय पर्यटक आकर्षणों के लिए प्रसिद्ध है, इस आग की चपेट में आ गया है। राष्ट्रपति गेब्रियल बोरिक ने देशवासियों को सूचित किया कि आग के कारण मरने वालों की संख्या में वृद्धि की आशंका है और यह संख्या पहले ही 99 तक पहुंच चुकी है। इस भीषण घटना ने विना डेल मार के प्रसिद्ध वनस्पति उद्यान को भी नष्ट कर दिया, जो 1931 से यहाँ का एक आकर्षण था।

Read Also- 2024 का पहला सूर्य ग्रहण: जानिए इसके अद्भुत प्रभाव और रहस्यमयी नियम!

Advertisement

देश की गृह मंत्री, कैरोलिना तोहा ने जानकारी दी कि चिली के मध्य और दक्षिण क्षेत्र में 92 जंगलों में आग लगी हुई है, जिसके कारण तापमान में असामान्य वृद्धि देखी गई है। इस आग की भीषणता के कारण विना डेल मार और आसपास के इलाकों में रहने वाले कम से कम 1,600 लोग बेघर हो गए हैं और 200 लोग लापता हैं। यह घटना ने न केवल जीवन और संपत्ति को नुकसान पहुंचाया है बल्कि यहाँ के प्राकृतिक और मानव निर्मित सौंदर्य को भी नष्ट किया है।

बोरिक ने देश के लोगों से आग्रह किया है कि वे बचावकर्मियों के साथ पूरा सहयोग करें और यदि उन्हें इलाका खाली करने के लिए कहा जाता है तो वे बिना संकोच किए ऐसा करें। उन्होंने जोर देकर कहा कि आग बहुत तेजी से फैल रही है और जलवायु परिस्थितियों के कारण इस पर काबू पाना मुश्किल हो गया है। उन्होंने आपातकालीन स्थिति की घोषणा की और लोगों को आश्वासन दिया कि सरकार उनके पैरों पर वापस आने में मदद करेगी। इस त्रासदी के बीच, राहत और बचाव दल बहादुरी से आग से लड़ रहे हैं, जहाँ 19 हेलीकॉप्टर और 450 से अधिक दमकल कर्मी आग पर काबू पाने के लिए क्षेत्र में तैनात किए गए हैं। वालपराइसो क्षेत्र में तीन आश्रय शिविर भी बनाए गए हैं ताकि प्रभावित लोगों को अस्थायी शरण मिल सके।

Advertisement

Read also- “खुलासा: सपिंड विवाह पर दिल्ली हाई कोर्ट का चौंकाने वाला फैसला!”

इस मुश्किल घड़ी में, चिली के लोग एकजुट होकर इस चुनौती का सामना कर रहे हैं, और दुनिया भर से सहायता और समर्थन की आशा कर रहे हैं। यह घटना न केवल चिली के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए एक जागृति का संदेश है कि जलवायु परिवर्तन के प्रभाव से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर साझा प्रयासों की आवश्यकता है।

Advertisement

अग्निर्दावानलो विश्वं संप्रदाहति सर्वतः।
सम्यग्दृष्टिः प्रयत्नेन संरक्षणं च कारयेत्॥

अर्थ – “आग एक वन्य अग्नि की तरह सम्पूर्ण विश्व को जला देती है। सही दृष्टिकोण और प्रयास से ही संरक्षण संभव है।” यह श्लोक चिली में व्याप्त विशाल जंगल की आग के संदर्भ में बहुत ही प्रासंगिक है। यह आग की विनाशकारी शक्ति को दर्शाता है जो किसी भी क्षेत्र को पूर्ण रूप से नष्ट कर सकती है। साथ ही, यह श्लोक हमें यह सिखाता है कि सम्यक् दृष्टिकोण और सतत प्रयास से ही प्राकृतिक आपदाओं का सामना किया जा सकता है और उनके प्रभाव को कम किया जा सकता है। इसका अर्थ है कि आग से बचाव और नियंत्रण के लिए जागरूकता, तैयारी और समन्वित प्रयास आवश्यक हैं, जैसा कि चिली में आग से निपटने के लिए किया जा रहा है।

Advertisement