Connect with us

विदेश

चीन और ताइवान के बीच बढ़ी टेंशन: युद्ध हुआ तय ?

Published

on

China and Taiwan conflict

आधुनिक विश्व राजनीति में चीन-ताइवान संबंध एक जटिल और गंभीर मुद्दा है। चीन ताइवान को अपना एक अभिन्न अंग मानता है, जबकि ताइवान खुद को एक स्वतंत्र और संप्रभु राज्य के रूप में देखता है। यह विवाद चीनी गृहयुद्ध के समापन के साथ उभरा, जब चीनी गणराज्य की सरकार कम्युनिस्ट पार्टी के खिलाफ युद्ध हारने के बाद 1949 में ताइवान चली गई। तब से, चीन ने लगातार ताइवान पर अपना दावा बनाए रखा है। 

Read Also- ईरान का अनसुना सच: खुलासा जो आपको हैरान कर देगा!

Advertisement

हाल ही में, चीन ने ताइवान के आसपास 33 लड़ाकू विमानों और युद्धपोतों को भेजकर अपने सैन्य दबाव को बढ़ाया है, जो ताइवान-चीन संबंधों में एक नया मोड़ है। इस कदम को ताइवान के प्रति चीन के दावे को मजबूत करने के रूप में देखा जा रहा है। एक रिपोर्ट के अनुसार ताइवान ने 23 चीनी वायु सेना के विमानों का पता लगाया, जो चीन-अमेरिका वार्ता से पहले संयुक्त युद्ध तत्परता गश्ती कर रहे थे। यह घटना न केवल क्षेत्रीय तनाव को बढ़ाती है, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

Read also- अभ्यास साइक्लोन से क्यों लग रही दुश्मनों को मिर्ची

Advertisement

इस पृष्ठभूमि में, यह महत्वपूर्ण है कि विश्व समुदाय इस मुद्दे पर ध्यान दे और शांति एवं स्थिरता के लिए कदम उठाए। ताइवान के साथ-साथ अन्य देशों को भी इस स्थिति का सामना करने के लिए एकजुट होना चाहिए और वार्ता के माध्यम से समाधान खोजने की कोशिश करनी चाहिए। इस तरह के सैन्य अभियानों से उत्पन्न होने वाले तनाव और अनिश्चितता के बीच, यह आवश्यक है कि सभी पक्ष शांति और सहयोग की दिशा में काम करें। अंततः, यह घटनाक्रम न केवल एशियाई क्षेत्र के लिए, बल्कि पूरे विश्व के लिए एक चेतावनी है कि सैन्य ताकत का प्रयोग और दबाव बनाने की नीतियां अंततः विश्व शांति के लिए खतरा बन सकती हैं।

“विना विनयेन न कश्चित् दृढं राज्यं समाश्रयेत्।

Advertisement

समुद्रः पीयूषवत् तिष्ठेत् सर्वेषां जीवनाय च॥”

अर्थ- “बिना विनम्रता के कोई भी दृढ़ता से राज नहीं कर सकता। समुद्र सभी के जीवन के लिए अमृत की तरह बना रहता है।”यह श्लोक चीन और ताइवान के बीच चल रहे तनावपूर्ण संबंधों के संदर्भ में एक महत्वपूर्ण संदेश देता है। इसका अर्थ है कि विनम्रता और समझदारी के बिना, कोई भी देश या नेता दीर्घकालिक और स्थिर शासन नहीं कर सकता। यह श्लोक चीन को यह संदेश देता है कि अगर वह ताइवान के प्रति अपने रुख में विनम्रता और समझदारी अपनाए, तो इससे न केवल क्षेत्रीय शांति स्थापित होगी, बल्कि यह दोनों देशों के लिए लाभकारी होगा। समुद्र की तरह, जो सभी के लिए अमृत का काम करता है, एक देश को भी अपने नीतियों और कार्यों में समावेशी और लाभकारी होना चाहिए। इस तरह, यह श्लोक वर्तमान राजनीतिक स्थिति में एक गहरा और प्रासंगिक अर्थ रखता है।

Advertisement