Connect with us

टेक-ऑटो

एक सोच जो मोटर जगत में क्रांति बनकर उभरी

Published

on

ford

आप सभी अब तक ये जान ही चुके होंगे की भारत में फोर्ड दोबारा से वापसी कर रहा है। ऐसे में आज हम आपको इसके मालिक हेनरी फोर्ड के जीवन के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप भी शिक्षा ले सकते है। हेनरी फोर्ड का जन्म 30 जुलाई 1863 को मिशिगन में हुआ था, वे न केवल एक महान उद्योगपति थे, बल्कि एक विचारक और नवप्रवर्तक भी थे। उनका बचपन एक किसान परिवार में बीता, लेकिन उनकी रुचि मशीनों और इंजीनियरिंग में थी। उन्होंने अपने पिता की खेती के काम में हाथ बटाने के साथ-साथ मशीनों के प्रति अपनी जिज्ञासा को भी पोषित किया। युवा हेनरी ने डेट्रॉयट में एक मशीनिस्ट के रूप में काम किया और वहां उन्होंने अपने तकनीकी कौशल को निखारा।

Read also- भारत (India) में दिखा दुर्लभ जीव – सब हैरान!

Advertisement

हेनरी फोर्ड ने 1896 में अपनी पहली मोटर कार, ‘क्वाड्रिसाइकल’ का निर्माण किया। उनकी इस सफलता ने उन्हें और अधिक प्रेरित किया और 1903 में उन्होंने फोर्ड मोटर कंपनी की स्थापना की। उनकी कंपनी ने 1908 में मॉडल टी कार लॉन्च की, जो उस समय की सबसे लोकप्रिय और सस्ती कार थी। हेनरी फोर्ड का मानना था कि हर व्यक्ति के पास कार होनी चाहिए और इसी सोच ने उन्हें ऑटोमोबाइल उद्योग में क्रांति लाने के लिए प्रेरित किया।

हेनरी फोर्ड ने न केवल उत्पादन की दुनिया में क्रांति की, बल्कि उन्होंने अपने कर्मचारियों के लिए भी बेहतर कामकाजी परिस्थितियां सुनिश्चित कीं। उन्होंने असेंबली लाइन की अवधारणा को प्रस्तुत किया, जिसने उत्पादन की गति और कुशलता को बढ़ाया। उनकी ये नीतियां और नवाचार ने विश्व भर में उद्योग जगत को प्रभावित किया।

Advertisement

Read also- पीएम मोदी (Modi) भी जानते हैं छोटी गाय का महत्व! पर क्या आप जानते हैं ?

हेनरी फोर्ड का निधन 7 अप्रैल 1947 को हुआ, लेकिन उनकी विरासत आज भी जीवित है। उनकी जीवनी हमें यह सिखाती है कि कैसे एक व्यक्ति की सोच और दृढ़ संकल्प से न केवल उसका जीवन बदल सकता है, बल्कि वह समाज और दुनिया को भी एक नई दिशा दे सकता है। हेनरी फोर्ड की यह कहानी हमें प्रेरित करती है कि कैसे हम अपने सपनों को साकार कर सकते हैं और समाज के लिए कुछ सार्थक कर सकते हैं।

Advertisement

“कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।

मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते संगोऽस्त्वकर्मणि॥”

Advertisement

अर्थ –“तुम्हारा अधिकार केवल कर्म करने में है, फलों में कभी नहीं। कर्म के फल के लिए मत बनो और न ही कर्म न करने में तुम्हारा संग हो।” यह श्लोक हेनरी फोर्ड की जीवनी से गहरा संबंध रखता है। हेनरी फोर्ड ने अपने जीवन में निरंतर प्रयास और कर्म पर जोर दिया। उन्होंने कभी भी फलों की चिंता नहीं की, बल्कि अपने कार्यों पर ध्यान केंद्रित किया। उनका जीवन यह सिखाता है कि सफलता के लिए कर्म करना आवश्यक है, और फलों की चिंता किए बिना निरंतर प्रयास करना चाहिए। इस श्लोक के माध्यम से हमें यह सीख मिलती है कि कर्म ही जीवन का सार है और इसी से सच्ची सफलता प्राप्त होती है।

Advertisement
Continue Reading
Advertisement