Connect with us

विज्ञान

क्यों हैं भारत के Google Satellite Maps धुंधले? जानें

Published

on

भारत में Google Maps और अन्य सैटेलाइट आधारित मैपिंग सेवाओं का उपयोग करते समय अक्सर यह प्रश्न उठता है कि भारतीय मैप्स अन्य विकसित देशों की तुलना में क्यों धुंधले नजर आते हैं। इसका मुख्य कारण भारतीय कानून और नीतियां हैं, जो सैटेलाइट इमेजरी के रेजोल्यूशन पर सीमाएं लगाती हैं।

भारतीय कानून के अनुसार, प्राइवेट कंपनियों को एक मीटर स्पेशल रेजोल्यूशन तक की इमेजरी प्रदान करने की अनुमति है। इसका अर्थ है कि सैटेलाइट द्वारा ली गई तस्वीर में सबसे छोटा पिक्सेल जमीन पर एक मीटर वर्ग मीटर के आकार का होता है। इस नियमन का मुख्य उद्देश्य देश की सैन्य स्थापनाओं, सड़क नेटवर्क और संवेदनशील क्षेत्रों की सुरक्षा करना।  जब हम भारतीय सैटेलाइट मैप्स की तुलना अन्य देशों, जैसे कि अमेरिका और यूरोपीय देशों से करते हैं, तो हमें एक महत्वपूर्ण अंतर दिखाई देता है। इन देशों में, सैटेलाइट इमेजरी का रेजोल्यूशन बहुत अधिक होता है, अक्सर 30 सेंटीमीटर तक, जो भारत के एक मीटर रेजोल्यूशन की तुलना में कहीं अधिक स्पष्ट है। इसका मतलब यह है कि इन देशों के मैप्स में विस्तार और स्पष्टता बहुत बेहतर होती है, जिससे छोटी-छोटी वस्तुएं और संरचनाएं भी साफ नजर आती हैं।

Advertisement

इसके अलावा, भारत में विमानों का उपयोग करके इमेजरी एकत्र करने पर भी कई प्रतिबंध हैं। विदेशों में, विशेषकर विकसित देशों में, विमानों और सैटेलाइट्स का उपयोग करके अधिक विस्तृत और स्पष्ट इमेजरी एकत्र की जाती है, जिससे उनके मैप्स अधिक स्पष्ट और विस्तृत होते हैं।उच्च रेजोल्यूशन वाली इमेजरी का उपयोग न केवल सुरक्षा बल्कि उपयोगकर्ता की गोपनीयता के लिए भी चुनौतियां पैदा करता है। इसलिए, इमेजरी की गुणवत्ता में सुधार करते समय इन मुद्दों का संतुलन बनाना आवश्यक है।

Read More: Aditya-L1: जानिए ISRO के इस नए मिशन के बारें मे सब कुछ

Advertisement

भारतीय मैप्स की तुलना में अन्य देशों के मैप्स में इस तरह की उच्च रेजोल्यूशन वाली इमेजरी की अनुपलब्धता के कारण, भारतीय उपयोगकर्ताओं को गूगल मैप्स और अन्य समान सेवाओं पर कम विस्तार वाली इमेजरी देखने को मिलती है। इसके अलावा, भारतीय कानूनों और नीतियों के कारण, इमेजरी के लिए आवश्यक अनुमतियां प्राप्त करना और भी कठिन हो जाता है।  भारत का अपना उपग्रह नेविगेशन सिस्टम, NAVIC (Navigation with Indian Constellation), भारतीय स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) द्वारा विकसित किया गया है। NAVIC का उद्देश्य भारत और उसके आसपास के क्षेत्रों में सटीक और स्वतंत्र नेविगेशन सेवाएं प्रदान करना है। यह सिस्टम भारतीय मैप्स की गुणवत्ता और सटीकता में सुधार ला सकता है, क्योंकि यह भारत को अपनी नेविगेशन क्षमताओं में अधिक स्वायत्तता प्रदान करता है। NAVIC का उपयोग विभिन्न अनुप्रयोगों में किया जा सकता है, जैसे कि वाहन ट्रैकिंग, आपदा प्रबंधन, और नेविगेशन सहायता।

इस विषय पर आगे चर्चा करते हुए, यह भी उल्लेखनीय है कि भारतीय मैप्स में धुंधलापन केवल तकनीकी और कानूनी पहलुओं तक सीमित नहीं है। इसके पीछे राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे भी महत्वपूर्ण हैं। भारत जैसे विशाल और विविधतापूर्ण देश में, जहां कई संवेदनशील क्षेत्र हैं, उच्च रेजोल्यूशन वाली इमेजरी की अनुमति देना सुरक्षा जोखिमों को बढ़ा सकता है। इसलिए, यह नियमन न केवल तकनीकी बल्कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से भी महत्वपूर्ण है।

Advertisement

अंत में, यह कहा जा सकता है कि भारतीय मैप्स का धुंधलापन एक जटिल मुद्दा है, जिसमें तकनीकी, कानूनी, और सुरक्षा संबंधी पहलुओं का समावेश है। इसके समाधान के लिए न केवल तकनीकी उन्नति की आवश्यकता है, बल्कि सुरक्षा और निजता के मुद्दों पर भी संतुलन बनाना आवश्यक है। तकनीकी प्रगति के साथ, भविष्य में भारतीय सैटेलाइट इमेजरी में सुधार संभव है। नई तकनीकें और नीतिगत परिवर्तन न केवल इमेजरी की गुणवत्ता में सुधार ला सकते हैं, बल्कि सुरक्षा और निजता के मुद्दों का भी संतुलन बना सकते हैं।

Advertisement